कार्यक्रम विषय- भक्ति संध्या

दिनांक- 28 सितंबर 2017

स्थान- पालीवाल आॅडोटोरियम, फिरोजाबाद।

आमंत्रित अतिथि- विनोद अग्रवाल

संयोजन- हिन्दुस्तान, इनफिनिटी, शब्दम् एवं पूजा सोप

कार्यक्रम के प्रारम्भ में हरि संकीर्तन की प्रस्तुति ने उपस्थित जनसमूह को मंत्रमुग्ध कर दिया। ‘मैं बाँके की बाँकी बन गयी और बाँका बन गया मेरा’ जब विनोद अग्रवाल के कंठ से प्रस्तुत हुआ तो उपस्थित जन समूह भगवान में लीन हो गया ।

भजन संध्या कार्यक्रम के मंच का एक दृष्य।

सभागार में तालियों के साथ झूमते श्रोतागण।

भजन संध्या में अपनी प्रस्तुति देते विनोद अग्रवाल।

 

shabdam hindi prose poetry dance and art

next article