एकल काव्य पाठ

दिनांक- 27 अगस्त 2017

अध्यक्षता- श्री उदयप्रताप सिंह

संयोजन- शब्दम्

काव्यपाठ- डाॅ. महेश आलोक

अध्यक्षता- श्री पुन्नी सिंह

मुख्य अतिथि- हिन्द लैम्प्स परिसर स्थित, संस्कृति भवन

स्थान- हिन्द लैम्प्स परिसर स्थित संस्कृति भवन, शिकोहाबाद

हिन्दीभाषा के संवर्द्धन के लिए प्रयासरत देश की प्रसिद्ध संस्था शब्दम् द्वारा देश के चर्चित युवा कवि डाॅ. महेश आलोक के एकल काव्यपाठ का सफल आयोजन 27 अगस्त 2017 को हिन्दलैम्प्स परिसर स्थित संस्कृति भवन में किया गया।

लगभग एक घण्टे के काव्यपाठ में महेश आलोक ने जनसत्ता, ......... आदि पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित अपनी कविताओं का पाठ किया। जिसे उपस्थित साहित्यकारों और साहित्य प्रेमियों ने मुक्त कण्ठ से सराहा। उल्लेखनीय है कि शब्दम् साहित्य के क्षेत्र में अभिनव प्रयोग कर रही है, जिसके अंतर्गत ‘पुस्तक चर्चा’, ‘एकल काव्यपाठ’ तथा साहित्कार सम्मेलन आदि के आयोजन कर रही है।

रविवार को सम्पन्न हुए इस एकल काव्यपाठ आयोजन की अध्यक्षता शिकोहाबाद के साहित्य और संस्कृति प्रेमी श्री उमाशंकर शर्मा ने की। मुख्य अतिथि थे देश के जानेमाने हिन्दी कथाकार श्री पुन्नी सिंह जी। कार्यक्रम में अनेक कवियों तथा साहित्यकारों ने श्रोता के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज करायी।

डाॅ. महेश आलोक द्वारा प्रस्तुत कविता-

क्या कर रहे थे हम । क्या कर रहे थे
हमारे देवता
क्या कर रही थी पृथ्वी और हवा
क्या कर रहे थे पेड़ । क्या कर रही थी चिड़िया
क्या कर रहे थे सूरज और चन्द्रमा
सबकी आँखों के सामने खेला जा रहा था सदी का सबसे घिनौना कृत्य
और वह चीख रही थी,
जज महोदय आप दें या न दें
बच्चियाँ उन दरिन्दों को कविता में
दे रही हैं फाँसी...........

फोटो परिचय

डॉ. महेश आलोक द्वारा एकल काव्यपाठ कार्यक्रम का दृश्य।

एकल काव्यपाठ में अपनी प्रस्तुति देते डॉ. महेश आलोक।

next article