कार्यक्रम- 'रंग गाढ़े भरो एकता के' प्रतियोगिता

दिनांक- 10 अगस्त 2015

स्थान- हिन्द लैम्पस् परिसर स्थित संस्कृति भवन

प्रतियोगिता चयन समिति- डा रामसनेही लाल शर्मा 'यायवर' श्री मंजर-उल वासै, श्री अरविन्द तिवारी

संयोजन- शब्दम्

शब्दम् द्वारा आज दिनांक 10 अगस्त 2015 को हिन्द लैम्प्स परिसर स्थित संस्कृति भवन में 'देश प्रेम पर आधारित रचनाएँ' कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का उद्देश्य विद्यार्थियों में देश प्रेम की भावना जागृत करना एवं स्वतन्त्रता दिवस तक सभी विद्यालयों में देश प्रेम का महत्व एवम् वातावरण तैयार करना था।

कार्यक्रम तीन चरणों में आयोजित किया गया जिसमें शिकोहाबाद एवं सिरसागंज के 16 विद्यालयों महाविद्यालयों के लगभग 36 विद्यार्थियों ने भाग लिया।

कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने देशप्रेम पर आधारित स्वरचित रचनाओं के साथ-साथ अन्य जाने-माने लेखकों की रचनाएँ भी सुनायी। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री उमाशंकर शर्मा ने की।

निर्णायक मण्डल की भूमिका में फिरोजाबाद से पधारे श्री रामसनेही लाल 'यायावर' शिकोहाबाद से श्री अरविन्द तिवारी एवं श्री मंजर उलवासै जी थे जिन्होंने प्रतियोगिता का मूल्यांकन विषयवस्तु प्रस्तुतिकरण एवं भाषा के आधार पर किया।

कार्यक्रम का परिणाम-

प्रथम वर्ग-
प्रथम - राहत अली प्रहलाद राय टिकमानी सरस्वती विद्या मन्दिर, शिकोहाबाद।
द्वितीय - शिवानी यंग स्कालर्स एकेडमी शिकोहाबाद।
तृतीय - आकर्षण उपाध्याय ब्राइट स्कालर्स एकेडमी सिरसागंज।

द्वितीय वर्ग-
प्रथम - अंजली मधु माहेश्वरी कन्या विद्यालय शिकोहाबाद।
द्वितीय - सैजल जैन डिवाइन इण्टरनेशनल एकेडमी सिरसागंज।
तृतीय - कु. करश्मिा राजकान्वेंट पब्लिक स्कूल शिकोहाबाद।

तृतीय वर्ग-
प्रथम - निधी यादव एम.डी-जैन इण्टर कालेज सिरसागंज।
द्वितीय - हर्षिता गुप्ता आदर्श कृष्ण महाविद्यालय शिकोहाबाद।
तृतीय - कौशल यादव पालीवाल महाविद्यालय शिकोहाबाद।

निर्णायक मण्डल के सदस्य श्री मंजर उलवासै ने बच्चों को सम्बोधित करते हुए उन्हें उनकी प्रस्तुति में किस प्रकार सुधार किया जा सकता है विषय पर प्रकाश डाला।

निर्णायक मण्डल के अन्य सदस्य श्री रामसनेही लाल शर्मा ^यायावर’ ने भी इस अवसर पर बच्चों को सम्बोधित। श्री उमाशंकर शर्मा ने अपना अध्यक्षीय वक्तव्य प्रस्तुत किया। ज्ञानदीप पब्लिक स्कूल की निदेशिका एवं शब्दम् सलाहकार मण्डल के सदस्य डा. रजनी यादव ने धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं प्रस्तुत की गईं कविताओं के कुछ अंश।

'लाज मेरे हिन्द देश की रखियो
दुश्मन खड़ा ताकता इससे जरा सजग तुम रहियो।
लाज मेरे हिन्द देश की रखियो
अब तक हमने जिसे दुलारा, उसने ही आज हमें ललकारा
आस्तीन का सांप है बंधु इससे बचकर रहियो।
लाज मेरे हिन्द देश की रखियो।

राहत अली प्रथम श्रेणी- सरस्वती विद्या
मन्दिर शिकोहाबाद

हिन्द देश के निवासी, सभी जन एक हैं।
रंग रूप वेश भाषा चाहे अनेक हैं।
बेला गुलाब जूही चम्पा चमेली
प्यार-प्यारे फूल गुथे माला में एक हैं।

अंजली, प्रथम श्रेणी, मधु माहेश्वरी कन्या विद्यालय,
शिकोहाबाद

माटी का कर्ज चुकाना है,
माटी का कर्ज चुकाना है।
जिस उपवन में हम-तुम खेले,
उस उपवन को महकाना है।
कुछ कर्ज हवा का तुम पर है
कुछ कर्ज धूप का भी यारो।
कुछ कर्ज गांव की गलियों का
कुछ कर्ज खेत का भी यारो।

आकर्षण, तृतीय श्रेणी ब्राइट स्कालर्स एकेडमी
सिरसागंज

रंग गाढ़े भरो एकता के
साधना मे कमी आ गई है।
हो रहा प्रदूषित चमन भी
धारणा में कमी आ गई है।

शिवानी, द्वितीय श्रेणी, यंग स्कालर्स अकेडमी
शिकोहाबाद

कार्यक्रम में अपनी प्रस्तुति देती हुयी छात्रा।

कार्यक्रम में निर्णायक मण्ड़ल एवं मुख्य अतिथि के समक्ष प्रस्तुति देता छात्र।

पुरस्कार प्राप्त करती छात्रा।

समूह छायांकन।


shabdam hindi prose poetry dance and art

next article